newz fast

दिल्ली एनसीआर के इस इलाके में प्रोपर्टी खरीदने से पहले कर लें जांच-पड़ताल, वरना कभी भी चल सकता है बुलडोजर

bulldozer on property:आजकल प्रोपर्टी खरीदना काफी मुश्किल हो गया है. क्योंकि प्रोपर्टी में पैसा में ज्यादा पैसा निवेश करना पड़ता है. ऐसे में आप भी NCR के इन इलाकों में घर खरीदने का प्लान बना रहे है तो आपको बता दें प्रोपर्टी खरीदने से पहले  अच्छे से जांच पड़ताल कर लें. वरना कभी भी सरकार का बुलडोजर चल जाएगा तो आइए जानते है प्रोपर्टी से जुड़ी बातों के बारे में...
 | 
प्रोपर्टी खरीदने से पहले कर लें जांच-पड़ताल, वरना कभी भी चल सकता है बुलडोजर
Newz Fast India, New Delhi: दिल्‍ली के करीब एनसीआर में प्रॉपर्टी खरीदने से पहले उसे अच्‍छी तरह से जांच लें. हो सकता है कि जिस प्रॉपर्टी को खरीदने जा रहे हों वो अवैध हो और बाद में सरकार उस प्रापर्टी पर बुलडोजर (bulldozer on property) चलवा देगी. 

इस तरह आपके जीवन भर की कमाई पल भर में बर्बाद हो सकती है. स्‍वयं स्‍थानीय प्राधिकरण ने लोगों से अपील की है कि प्रापर्टी खरीदने से पहले जांच लें.

दिल्‍ली से मेरठ के बीच रैपिड रेल (नमो भारत) का निर्माण चल रहा है. 

दिल्‍ली से सटे गाजियाबाद में भूमाफिया सक्रिय हो गए हैं और नमो भारत ट्रेन के रूट के आसपास अवैध रूप में कॉलोनी काटकर बेच रहे हैं. दूर दराज के शहरों में रहने वाले लोग इसके चंगुल में फंस रहे हैं. इस तरह अवैध कालोनियां (illegal colonies)अन्‍य शहरों में भी काटी जा रही हैं.

रिडेवलप हो रहे 553 रेलवे स्टेशनों में यूपी, बिहार,पंजाब, हरियाणा के कौन-कौन स्‍टेशन शामिल हैं ? यहां जानें

गाजियाबाद में नमो भारत ट्रेन के टीओडी जोन में 70 हजार वर्गमीटर जमीन पर काटी जा रही पांच अवैध कॉलोनी को गाजियाबाद विकास प्राधिकरण ने ध्वस्त किया. ओएसडी गुंजा सिंह के नेतृत्व में यह कार्रवाई की गई है. 

उन्‍होंने लोगों से अपील है कि गाजियाबाद में कहीं भी भूखंड खरीदने से पहले प्राधिकरण में आकर यह अवश्य जांच लें कि उक्त कॉलोनी का नक्शा जीडीए से स्वीकृत है या नहीं. स्वीकृत कॉलोनी में ही भूखंड या फ्लैट खरीदें. लोग सस्‍ते में चक्‍कर में इन भूमाफियाओं के चंगुल में फंस रहे हैं. जो पूरी तरह अवैध होती हैं.

रैपिड रेल ट्रैक के आसपास अवैध कॉलोनियां

जीडीए ओएसडी के अनुसार भिक्कनपुर, बसंतपुर सैंथली, बखरवा में अवैध कॉलोनी काटी जा रही थी. इन सभी को अवैध कॉलोनी न काटने के संबंध में में नोटिस भी दिया गया था, लेकिन इसके बाद भी अवैध कालोनी काटते रहे. प्राधिकरण ने अवैध कॉलोनी में भूखंडों की चारदीवारी, कॉलोनी की चारदीवारी व दफ्तर को ध्वस्त किया गया.