newz fast

क्या आप जानते हैं PDI Test के बारे में, अगर नहीं किया तो मिल सकती है खराब गाड़ी

अगर आप भी खरीदने जा रहे है कार तो रखे इन बातों का रखिए खास ख्याल नही तो पड़ सकता है पछताना। अब ऐसे करे कार डिलीवरी से पहले कार की गुणवता की जांच।जानते है इन नई कारों का PDI चैक करवाना क्यो है इतना जरुरी...
 | 
क्या आप जानते हैं PDI Test के बारे में, अगर नहीं किया तो मिल सकती है खराब गाड़ी
Newz Fast India, New Delhi: कार खरीदना सभी के लिए किसी सपने से कम नहीं होता है. हर घर में जब नई गाड़ी आती है तो उसकी खुशी न केवल एक परिवार बल्कि आस पड़ाेस में भी मनाई जाती है. लोग खुशी में मिठाइयां बांटते हैं. 

खासकर हमारे देश में कार खरीदना किसी बड़ी मंजिल को पा लेने से कम नहीं माना जाता है. लेकिन कई बार नई कार खरीदने के बाद भी लोग ठगा सा महसूस करने लगते हैं. 

शोरूम से निकली नई चमचमाती कारों में भी ऐसी खराब‌ियां सामने आ जाती हैं जो घर परिवार की खुशियों में ग्रहण लगा देती हैं. लोगों को कार लाने की खुशी मनाने की जगह पर लाखों के लगे चूने का अफसोस मनाना पड़ता है.

लेकिन ऐसा क्यों होता है और इससे कैसे बचा जा सकता है ये कम ही लोगों को पता होता है. आइये आज हम आपको बताते हैं कि क्या होता है कार का PDI Check और इसको क्यों करना होता है जरूरी.

क्या होता है पीडीआई चैक
किसी भी नई कार की विंडशील्ड पर आपने पीडीआई चैक का एक स्टीकर लगा देखा होगा. दरअसल पीडीआई चैक का मतबल होता है प्री डिलीवरी इंस्पेक्‍शन. 

ये चैक डीलरशिप पर कार को ग्राहक को डिलीवर करने से पहले करवाना होता है. लेकिन बहुत की कम लोग इस बात पर ध्यान देते हैं और इसका सीधा फायदा डीलर उठाते हैं. प्री डिलीवरी इंस्पेक्‍शन के दौरान गाड़ी में किसी भी तरह की खराबी को देखा जाता है.

उदाहरण के लिए नई गाड़ी पर लगे स्क्रैच, इंटीरियर में आए किसी तरह के दाग धब्बे, ओडोमीटर की रीडिंग, सभी इलेक्ट्रॉनिक पार्ट्स का सही से काम करना, किसी भी फाइबर या प्लास्टिक पार्ट का टूटा न होना या कार पर किसी तरह का डेंट न होना. ये सभी बातें प्री डिलीवरी इंस्पेक्‍शन के दौरान देखी जाती हैं.

क्यों होता है जरूरी
नई गाड़ी को लेने से पहले प्री डिलीवरी इंस्पेक्‍शन इसलिए जरूरी होता है ताकि आपको एक ऐसी गाड़ी मिल सके जिसमें किसी भी तरह की खराबी न हो. 

इससे आपके पास एक लंबे समय तक चलने वाली गाड़ी मिल सकती है. वहीं डिलीवरी के दौरान आप जो कागजात साइन करते हैं 

उनमें पीडीआई चैक का भी डिक्लेरेशन होता है. जिस पर साइन करने के बाद यदि आप कार को शोरूम से बाहर निकाल लेते हैं तो डीलर की किसी भी तरह की कोई जिम्मेदारी कार पर नहीं रहती है.

कैसे खराब हो जाती है नई कार
दरअसल हर डीलर के पास बड़ी संख्या में गाड़ियां होती हैं. इन सभी कारों को वे एक ओपन पार्किंग लॉट में पार्क करते हैं. इस दौरान नई कारों पर मौसमी मार तो लगती ही है, साथ ही कारों को पार्क करने और वहां से निकालने के दौरान भी ये हादसों का शिकार हो जाती हैं. जिसके चलते कार में टूट फूट हो जाती हैं.