newz fast

Ford In India: चेन्नई में ट्रक पर लदी दिखीं नई Ford Endeavour, क्या अब रिलॉन्च करीब?

 Ford In India:  अमेरिका की प्रमुख कार कपंनी फोर्ड भारतीय बाजार में वापस लौट रही है। आपको बता दें कि  Ford Endeavour डी सेगमेट की फुल एसयूवी गाड़ी है। वही इसकी टॅाप वेरिएंट की कीमत 60 लाख रुपये बताई जा रही है। इसमें 6-स्पीड ऑटोमैटिक सिस्टम दिया गया है और इसके अलावा इसमें कई फीचर्स भी देखने को मिलेगे। आईये जाने पूरी जानकारी नीचे खबर में....
 | 
चेन्नई में ट्रक पर लदी दिखीं नई Ford Endeavour, क्या अब रिलॉन्च करीब?
Newz Fast, New Delhi: New Ford Endeavour In India: अमेरिकी कार कंपनी फोर्ड के भारत में वापस लौटने की चर्चाएं तेज हैं. इन चर्चाओं के पीछे कई कारण हैं, जैसे- नई फोर्ड एंडेवर के पेटेंट की जानकारी सामने आना, फोर्ड का अपने चेन्नई प्लांट को बेचने की डील (JSW ग्रुप के साथ) कैंसिल करना और अब नई फोर्ड एंडेवर को चेन्नई में स्पोट किया जाना. एंडेवर भारत में फोर्ड के सबसे पापुलर प्रोडक्ट्स में से एक रही है. डी-सेगमेंट की इस फुल साइज एसयूवी की अलग फैन फॉलोइंग है, लोग आज भी इसे पसंद करते हैं. भारतीय बाजार में यह Toyota Fortuner और MG Gloster को कड़ी टक्कर देगी. 

वर्तमान में नई Ford Endeavour थाईलैंड में बिक रही है, वहां इसे Everest नाम से बेचा जा रहा है. अब यह भारतीय बाजार में आने के लिए तैयार हो रही है. ऐसा इसलिए भी कहा जा रहा है क्योंकि नई Ford Endeavour की स्पाई तस्वीरें सामने आई हैं. 

रिपोर्ट्स के अनुसार, तस्वीरें चेन्नई की हैं, जहां नई एंडेवर को ट्रक में लदे हुए देखा गया है. माना जा रहा है कि नई एंडेवर को कंपनी के चेन्नई प्लांट में ले जाया जा रहा था. टो ट्रक पर दिखी गाड़ी पर कोई कैमोफ्लाज नहीं था, उसपर Ford Everest की ब्रांडिंग साफ दिख रही थी.

हालांकि, अभी ये पक्का नहीं है कि Endeavour को भारत में बनाया जाएगा या पूरी तरह से तैयार कार के रूप में इंपोर्ट किया जाएगा. अगर इसे इंपोर्ट किया जाता है, तो इसकी कीमत काफी ज्यादा हो सकती है, खासकर टॉप मॉडल की कीमत 60 लाख रुपये (ऑन-रोड) से भी ज्यादा हो सकती है.

फिलहाल, अभी इस चीज को लेकर कोई जानकारी नहीं है कि एंडेवर को भारत में कब रिलॉन्च किया जाएगा. उम्मीद है कि कंपनी अब तेजी से लॉन्च की दिशा में बढ़ना चाहेगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, फोर्ड इस नई एंडेवर को तमिलनाडु के अपने 350 एकड़ के प्लांट से एक्सपोर्ट करने की भी योजना बना सकती है, जहां सालाना 1.5 लाख कारें और 3.4 लाख इंजन बनने की कैपेसिटी है.