newz fast

अब बार-बार नहीं करवानी पड़ेगी KYC, बस कर लो ये काम

Uniform KYC:  बैंक अकाउंट खुलवाना हो या फिर लोन लेने हो सभी कामों में KYC जरुरी है। अलग-अलग कामों के लिए अलग-अलग  KYC करनी होती है। जिसके कारण कई लोग परेशान हो जाते है। इसलिए अब केवाईसी के नियम बदलने जा रहे है। ताकि लोगों को राहत मिल सके।आजकल हर जगह लोगों को केवाईसी के लंबे प्रोसेस से गुजरना पड़ता है। जिससे लोग आइए इसे नाचे विस्तार में... 
 | 
अब बार-बार नहीं करवानी पड़ेगी KYC, बस कर लो ये काम
NewzFast, New Delhi:- (ब्यूरो) : बैंक और किसी भी वित्तीय काम (financial services) के लिए बार-बार केवाईसी कराने की परेशानी जल्द ही समाप्त होने वाली है। केंद्र सरकार बहुत जल्द एक ऐसे सिस्टम को लागू करने की तैयारी कर रही है, जिसमें आपको अलग-अलग सेवाओं के लिए बार-बार KYC कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कई डिजिटल सेवाओं के लिए तो लोगों लो बार-बार KYC की प्रक्रिया (long KYC Process) से गुजरना पड़ता है जो बहुत परेशानी भरा होता है। समय और संसाधन की बचत करने के लिए अब भारत सरकार बहुत जल्द KYC की प्रक्रिया में एक बड़ा बदलाव करने जा रही है।

दरअसल, फाइनेंसियल स्टेबिलिटी एंड डेवलपमेंट कॉउंसिल (FSDC) ने सरकार से देश में ‘यूनिफॉर्म केवाईसी’ को लागू करने की सिफारिश की है, जिससे केवाईसी प्रक्रिया को आसान बनाने का दावा किया जा रहा है। आइये जानते हैं क्या है यूनिफॉर्म केवाईसी क्या है और इससे क्या बदलाव आने वाले है |

FSDC ने दी यूनिफॉर्म केवाईसी शुरू करने की सलाह

केवाईसी (Know Your Customer) किसी भी कस्टमर की पहचान का तरीका होता है। बैंक अकाउंट, म्यूचुअल फंड(mutual Fund)  और लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance) लेने के लिए हर कस्टमर को केवाईसी से होकर गुजरना ही पड़ता है। कई मामलों में ऐसा बार-बार किया जाता है। कई बार अपडेट करने के नाम पर केवाईसी के तहत आपके डाक्यूमेंट्स मांगे जाते हैं। इस प्रक्रिया में बहुत सारा पेपरवर्क, समय और लागत लगती है। अब इस झंझट को खत्म करने के लिए फाइनेंशियल स्टेबिलिटी एंड डेवलपमेंट काउंसिल (FSDC) ने यूनिफॉर्म केवाईसी शुरू करने की सलाह दी है। इसकी मदद से फाइनेंशियल सेक्टर में किसी भी सेवा के लिए आपको सिर्फ एक बार ही केवाईसी प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ेगा।

 केंद्र सरकार ने फाइनेंस सेक्रेटरी  (finance Secretary) टीवी सोमनाथन की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है, जो कि यूनिफॉर्म केवाईसी को लेकर नियमों का ढांचा तैयार करेगी। एफएसडीसी के साथ हाल ही में हुई बैठक के दौरान वित्त मंत्री (finance minister) ने भी केवाईसी प्रक्रिया को आसान बनाने का सुझाव दिया था। सरकार की कोशिश है कि वित्तीय सेवाओं को आसान बनाया जाए।


जानिए कैसे काम करेगी यूनिफॉर्म केवाईसी (Uniform KYC) 

मौजूदा समय में आपको बैंक अकाउंट खुलवाते समय अपने पहचान पत्र के साथ KYC करानी पड़ती है और इसके साथ ही अगर स्टॉक मार्केट में निवेश करना हो तो अलग से फिर से केवाईसी करवाने की जरूरत पड़ती है। इसमें मेहनत और समय दोनों खर्च होते हैं। सरकार इसी रुकावट को दूर करना चाहती है।

नए सिस्टम में आपको 14 अंकों का सीकेवाईसी नंबर (CKYC Number) दे दिया जाएगा। साथ ही आपका केवाईसी रिकॉर्ड सेबी (SEBI) के अलावा आरबीआई (RBI), इरडा (IRDAI) और पीएफआरडीए (PFRDA) सभी जगह उपलब्ध करवा दिया जाएगा। इससे आपको हर जगह केवाईसी नहीं करवानी होगी, क्योंकि आपकी जानकारी अलग-अलग संस्थानों के पास सीकेवाईसी नंबर से पहुंच जाएगी।