newz fast

Success Story: घर की रसोई से बिजनेस शुरू करके खड़ी की करोड़ो की कंपनी, मिला मेहनत का फल

Success Story: कई बार इंसान की मेहनत और किसमत दोनों ही साथ नहीं देती. इंसान छोटे काम से बड़ा बनता है. कई बार संघर्ष करने के बाद मेहनत का फल मिलता है. आज हम आपको ऐसी महिला की कहानी बताने जा रहें है जिसने मेहनत से रसोई का कारोबार शुरू करके आज 6000 करोड़ की कंपनी खड़ी कर दी. चलिए जानते है इनकी सफलता के बारें में...
 | 
घर की रसोई से बिजनेस शुरू करके खड़ी की करोड़ो की कंपनी

Newz Fast- नई दिल्ली: अगर दिल में कुछ करने की चाह और मेहनत करने की ताकत हो तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है.

रजनी बेक्‍टर इसका जीती-जागती मिसाल है. मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेशियलिटीज (Mrs. Bector Food Specialties) की फाउंडर रजनी बेक्‍टर (Rajni Bector) ने घर के किचन से अपनी बिजनेस जर्नी शुरू की.

अपनी मेहनत, लगन और हुनर के बल पर उन्‍होंने 6 हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा बाजार पूंजीकरण वाली कंपनी खड़ी कर दी. उनकी कंपनी क्रिमिका (Cremica) नाम से बिस्किट और इंग्लिश ओवन (English Oven) ब्रांड से ब्रेड बनाती हैं.

उनके ग्राहकों की लिस्‍ट में मैकनॉल्‍ड्स और बर्गर किंग जैसी नामी कंपनियां शामिल हैं.रजनी बेक्‍टर का जन्‍म कराची में हुआ था. उन्‍होंने अपने बचपन के दिन लाहौर में बिताए.

लाहौर में उनके पिता नौकरी करते थे. साल 1947 में देश विभाजन के समय उनका परिवार दिल्‍ली आ गया. मात्र सत्रह साल की उम्र में ही रजनी बेक्‍टर की शादी लुधियाना के रहने वाले धरमवीर बेक्टर से हुई. शादी के बाद उन्‍होंने पढ़ाई पूरी की.

शौक ने बनाया बिजनेस वुमैन

शादी के बाद रजनी के तीन बेटे हुए. बेटे स्‍कूल जाने लगे तो रजनी का घर में अकेले समय काटना मुश्किल होने लगा. उन्‍हें कुकिंग का शौक था.

उन्‍होंने पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी (Punjab Agricultural University) में एक बेकिंग कोर्स में दाखिला लिया. वे आइसक्रीम, केक और कुकीज बनाती और लोगों को ट्राई करने के लिए देतीं.

उनके कुछ जानकारों ने उन्‍हें अपने शौक को बिजनेस में बदलने की सलाह दी. 1970 में रजनी ने घर पर ही आइक्रीम बनाकर बेचना शुरू कर दिया. इस तरह उनके बिजनेस कैरियर की शुरुआत हो गई.

1978 में कुकीज बनाना किया शुरू

1978 में 20,000 रुपये के शुरुआती निवेश के साथ उन्होंने बिस्किट, कुकीज और केक बनाने का काम शुरू कर दिया. इसके बाद तो रजनी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

शुरू में मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेयशियलिटी का नाम क्रिमिका रखा गया. इसे ब्रांड नाम से ही बिस्किट और कुकिज बेचने शुरू की. बाद में कंपनी का नाम बदलकर मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेशयलिटीज किया गया.

60 से अधिक देशों में एक्सपोर्ट होते हैं प्रोडक्ट

रजनी बेक्‍टर की कंपनी के बिस्किट, ब्रेड और आइसक्रीम 60 से भी अधिक देशों में एक्सपोर्ट किए जाते हैं. रजनी बेक्टर की कंपनी फास्ट फूड चेन मेक्डोनाल्ड्स और बर्गर किंग को भी ब्रेड सप्लाई करती है.

साल 2020 में कंपनी शेयर बाजार में सूचीबद्ध हो गई. आज मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेशयलिटी का बाजार पूंजीकरण 6 हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा है. साल 2021 में रजनी बेक्‍टर को पद्मश्री सम्‍मान दिया गया.