newz fast

Chanakya Niti:पुरूषों को हर किसी के आगे नहीं करना चाहिए इन बातों का जिक्र, वरना जिंदगी हो जाएगी बर्बाद

Chanakya Niti for Life: आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों मनुष्य जीवन की कुछ ऐसी बाते बताई है. जिसे पुरूष नंशे की हालत में सभी राज खोल देते है. आचार्य के अनुसार पुरूषों को हर किसी के आगे इन बातों जिक्र नहीं करना चाहिए. नहीं तो पता लगने के बाद जिंदगी बर्बाद हो सकती है तो आइए जानते है इन बातों के बारे में...
 | 
पुरूषों को हर किसी के आगे नहीं करना चाहिए इन बातों का जिक्र

NewzFast India, New Delhi: महान विद्वान आचार्य चाणक्‍य ने न केवल अर्थशास्‍त्र, राजनीति, कूटनीति के बारे में बताया है, बल्कि व्‍यवहारिक जीवन की भी बेहद महत्‍वपूर्ण बातें बताई हैं.

चाणक्‍य नीति की मन बातों को जीवन में उतारने से कई मुसीबतों से बचाव हो सकता है. साथ ही मुश्किल समय भी निकालने में मदद मिलती है. आइए हम संकट से उबारने में मदद करने वाली कुछ महत्‍वपूर्ण नीतियों के बारे में जानते हैं. 

हर किसी के सामने न करें इन बातों का जिक्र 

आचार्य चाणक्य अपने नीति शास्‍त्र चाणक्‍य नीति में कहते हैं कि जीवन में उतार-चढ़ाव और चुनौतियां आती हैं. लेकिन व्‍यक्ति को कुछ खास स्थितियों में धैर्य से काम लेना चाहिए और उनका जिक्र किसी से नहीं करना चाहिए. अपने इन दुखों या समस्‍याओं का हर किसी के सामने जिक्र करना बड़ी मुश्किल में डाल सकता है और आपको ज्‍यादा दुखी कर सकता है. 

- चाणक्‍य नीति कहती है कि जब व्‍यापार में बड़ा नुकसान हो जाए तो इसका जिक्र हर किसी के सामने न करें. बल्कि बेहतर होगा कि किसी के सामने इस नुकसान की बात न करें. वरना लोग आपके साथ व्‍यापार करने में कतराने लगेंगे, इससे आपके हालात और खराब हो सकते हैं. साथ ही आप अपना सम्‍मान भी खो देंगे. 

- पति या पत्‍नी में अवगुण होना या रोज-रोज झगड़े होना अच्‍छी बात नहीं है. इससे पूरे परिवार पर बुरा असर पड़ता है. बेहतर होगा कि आप रिश्‍ते सुधारने के लिए कोशिश करें. साथ ही हमेशा ध्‍यान रखें कि पति-पत्‍नी के बीच के झगड़े की बात किसी को न बताएं. 

ना ही एक-दूसरे की बुराई बताएं. वरना झगड़ा भले ही खत्‍म हो जाए लेकिन लोगों की नजर में आपकी छवि हमेशा के लिए खराब हो जाएगी. साथ ही आपका दांपत्‍य जीवन दूसरों के लिए मजाक बन जाएगा. 

- यदि किसी कारणवश आपका अपमान हो जाए तो ये बात कभी किसी को नहीं बताएं. अपने अपमान की बात अपने ही अंदर दबा लेना ठीक है, इसे हर किसी को बताना उनकी नजरों में भी अपने सम्‍मान को कम करना है.